एलडीए: जनेश्वर मिश्र पार्क में लगभग पांच एकड़ क्षेत्रफल में विकसित किया जा रहा है जुरासिक पार्क

जुरासिक पार्क में लगेंगे डायनासोर, किंग काॅग व मैमथ आदि के रियल साइज माॅडल, टाॅकिंग-ट्री देगा पर्यावरण संरक्षण का संदेश
अत्याधुनिक सेंसरों से युक्त होंगे सभी माॅडल, ब्रीथिंग व साउंड इफेक्ट के साथ डायनासोर का मूवमेंट भी देख सकेंगे दर्शक
प्राधिकरण की अध्यक्ष/मण्डलायुक्त डाॅ0 रोशन जैकब ने कार्य की प्रगति के सम्बंध में की समीक्षा बैठक, कार्यदायी संस्था ने दिया प्रोजेक्ट का प्रेजेन्टेशन
लखनऊ विकास प्राधिकरण द्वारा जनेश्वर मिश्र पार्क में विकसित किये जा रहे जुरासिक पार्क में डायनासोर, गाॅडजिला, किंग काॅग व मैमथ आदि के रियल साइज माॅडल लगाये जाएंगे। यह माॅडल अत्याधुनिक सेंसरों से लैस होंगे, जिससे कि दर्शक डायनासोर के ब्रीथिंग व साइंड इफेक्ट के साथ मूवमेंट का भी लुत्फ उठा सकेंगे। लगभग 5 एकड़ क्षेत्रफल में विकसित किया जा रहा यह पार्क, यू0पी0 का पहला डायनासोर पार्क होगा।
प्राधिकरण की अध्यक्ष/मण्डलायुक्त डाॅ0 रोशन जैकब ने सोमवार को इस प्रोजेक्ट की प्रगति के सम्बंध में समीक्षा बैठक की। जिसमें उपाध्यक्ष डाॅ0 इन्द्रमणि त्रिपाठी व कार्यदायी संस्था के प्रतिनिधि ने मौके पर किये जा रहे समस्त कार्यों का प्रेजेन्टेशन दिया। इसमें अवगत कराया गया कि जुरासिक पार्क में स्कल्पचर आदि के निर्माण में निष्प्रयोज्य वस्तुओं जैसे कि गाड़ियों के स्क्रैप व टायर इत्यादि का प्रयोग किया जा रहा है। इसमें डायनासोर की विभिन्न प्रजातियों के रियल साइज माॅडल तैयार कराये जा रहे हैं, जिसमें डायनासोर का एक माॅडल 55 फुट तक ऊंचा होगा। पार्क के मेन इंट्री गेट की ऊंचाई लगभग 9 मीटर होगी और इस पर उड़ने वाले डायनासोर (टेरानोडाॅन) का माॅडल स्थापित किया जाएगा। पार्क में लगभग 4 मीटर ऊंचा टाॅकिंग-ट्री स्थापित किया जाएगा, जो दर्शकों का स्वागत करने के साथ ही उन्हें पर्यावरण संरक्षण का संदेश देगा। पार्क के एक हिस्से में वाॅटर फाॅल और डायनासोर स्कल की आकृति वाली गुफा बनायी जाएगी। इसके अलावा यहां डायनासोर राइड भी की जा सकेगी, जोकि पार्क में आने वाले बच्चों व युवाओं के लिए आकर्षण का केन्द्र बनेगी।
डायनासोर के इतिहास से रूबरू होंगे दर्शक
उपाध्यक्ष डाॅ0 इन्द्रमणि त्रिपाठी ने बताया कि पार्क में एक बड़ा कैफेटेरिया बनाया जा रहा है। इसके अलावा यहां घूमने आने वाले दर्शकों की सहूलियत के लिए पाथ-वे के किनारे निर्धारित स्थानों पर सिटिंग प्वाइंट तथा कुछ जगहों पर आकर्षक सेल्फी प्वाइंट्स भी विकसित किये जा रहे हैं। जुरासिक पार्क को इस तरह विकसित किया जाए कि यह मनोरंजक के साथ शिक्षाप्रद भी हो। पार्क में आने वाले आंगतुक डायनासोर की उत्पत्ति से लेकर विलुप्त होने तक की पूरी कहानी से रूबरू हो सकें। इसके लिए अलग-अलग स्थानों पर साइनेज बोर्ड लगाए जाएंगे, जिनमें डायनासोर से सम्बंधित समस्त जानकारी उल्लेखित की जाएगी।
कार्य में तेजी लाने के निर्देश
मण्डलायुक्त ने कैसरबाग स्थित बेगम हजरत महल पार्क व ग्लोब पार्क में कराये जा रहे विकास एवं सौंदर्यीकरण के कार्यों की भी समीक्षा की। इसमें संस्था द्वारा ग्लोब की डिजाइन व फाउंटेन आदि का प्रेजेन्टेशन दिया गया। मण्डलायुक्त ने निर्देश दिये कि ग्लोब व फाउंटेन के चारों तरफ आकर्षक फोकस लाइटें लगवायी जाएं, जिससे कि रात के समय भी इसकी खूबसूरती देखी जा सके। इसके अलावा बेगम हजरत महल और ग्लोब पार्क के बीच बनायी जा रही बाउन्ड्रीवाॅल में हेरिटेज लुक वाली जाली लगायी जाए। वहीं, हुसैनाबाद में बनाये जा रहे फूड कोर्ट व म्यूजियम ब्लाॅक की धीमी प्रगति पर मण्डलायुक्त ने नाराजगी जताते हुए कार्यदायी संस्था के खिलाफ कार्यवाही करने के निर्देश दिये। उन्होंने निर्देश दिए की कार्य को शीर्ष प्राथमिकता के आधार पर तेज गति से पूर्ण कराया जाए।

Related Articles

Back to top button
");pageTracker._trackPageview();
btnimage