मुख्य सचिव ने समस्त मण्डलायुक्त एवं जिलाधिकारियों के साथ साप्ताहिक समीक्षा बैठक की

लखनऊ: मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र की अध्यक्षता में वीडियो कॉन्फ्रेन्सिंग के माध्यम से समस्त मण्डलायुक्तों एवं जिलाधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक आयोजित की गई।

अपने संबोधन में मुख्य सचिव ने कहा कि निराश्रित गो संरक्षण विशेष अभियान को आगामी 31 जनवरी तक बढ़ाया गया है। 75 दिवसीय इस विशेष अभियान के दौरान अवशेष निराश्रित गोवंश को गो आश्रय स्थलों में संरक्षित किया जाना है। एक भी निराश्रित गोवंश सार्वजनिक स्थलों पर घूमते हुए नहीं दिखना चाहिये। अभियान के पश्चात ग्रामीण क्षेत्र में ग्राम पंचायत अधिकारी एवं शहरी क्षेत्र में नगरीय निकाय के अधिकारियों से सभी निराश्रित गोवंश आश्रय स्थल में संरक्षित होने का सर्टिफिकेट लिया जाये और सार्वजनिक स्थल पर निराश्रित गोवंश घूमते हुए पाये जाने पर सम्बन्धित का उत्तरदायित्व निर्धारित कर कार्यवाही की जाये।

उन्होंने कहा कि अभियान के दौरान आश्रय स्थलों में गोवंश की संख्या बढ़ेगी, इसलिये नवीन वृहद् गो संरक्षण केन्द्र व अस्थायी गो-आश्रय स्थलों के निर्माण तथा गो-आश्रय स्थलों के विस्तारीकरण के कार्य में प्रगति लायी जाये। इसके अलावा गो-आश्रय स्थलों के लिये भूसा व चारे की अग्रिम व्यवस्था कर ली जाये। यह भी सुनिश्चित किया जाये कि सभी आश्रय स्थलों में गोवंशों के ठण्ड से बचाव हेतु आवश्यक व्यवस्थायें तथा केयर टेकर की तैनाती अनिवार्य रूप से हो।

नन्द बाबा दुग्ध मिशन के कार्यों की समीक्षा करते हुये उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री स्वदेशी गौ-संवर्धन योजना में लाभार्थियों के चयन एवं पशु क्रय का कार्य शीघ्र पूरा कराया जाये। इसी प्रकार मुख्यमंत्री प्रगतिशील पशुपालक प्रोत्साहन योजना में लाभार्थियों के चयन की कार्यवाही में प्रगति लायी जाये। नन्दिनी कृषक समृद्धि योजना के तहत सी0डी0ओ0 की अध्यक्षता में गठित कमेटी द्वारा ई-लॉटरी के माध्यम से लाभार्थी चयन की कार्यवाही आगामी 31 जनवरी तक पूर्ण करायी जाये।

बैठक में बताया गया कि मुख्यमंत्री स्वदेशी गौ-संवर्धन योजना के तहत 18 मण्डल मुख्यालय जनपदों में कुल 1250 लाभार्थी चयन लक्ष्य के सापेक्ष कुल 1201 लाभार्थियों का चयन किया गया है। मुख्यमंत्री प्रगतिशील पशुपालक प्रोत्साहन योजना के तहत कुल 8000 लक्ष्य के सापेक्ष 6362 आवेदन पत्र प्राप्त हुये हैं तथा 2213 गौवंश प्रोत्साहन हेतु चयनित किया गया है। नन्दिनी कृषक समृद्धि योजना 10 मण्डल मुख्यालय जनपद यथा लखनऊ, कानपुर, वाराणसी, गोरखपुर, झांसी, आगरा, बरेली, प्रयागराज, मेरठ एवं अयोध्या में योजना संचालित है। कुल 50 लाभार्थी के चयन के लक्ष्य के सापेक्ष कुल 187 आवेदन पत्र प्राप्त हुये हैं।

रबी सीजन की ई-खसरा पड़ताल की समीक्षा करते हुये उन्होंने कहा कि सर्वेयर गतिविधियों के साथ-साथ सुपरवाइजर की गतिविधियों की भी निगरानी रखी जाये, ताकि सर्वे का कार्य निर्धारित समयावधि में पूर्ण हो सके। सर्वेयर द्वारा फेक जी0पी0एस0 एप का प्रयोग किये जाने की जानकारी दिये जाने पर उन्होंने फेक एप प्रयोग करने वाले कर्मियों से स्पष्टीकरण प्राप्त करने और उनपर कार्यवाही करने के सख्त निर्देश दिये। बैठक में बताया गया कि 1411 गांवों तथा 15,38,946 प्लाट्स के सर्वे का कार्य पूर्ण हो चुका है, जिसमें से 2,43,988 सर्वे को सुपरवाइजर द्वारा एप्रूव भी किया जा चुका है।

उन्होंने कहा कि शास्त्रीय एवं लोक संगीत की पृष्ठभूमि में उत्तर प्रदेश के सभी अंचलों में ऐसे कलाकारों की पहचान कर उन्हें उनकी योग्यतानुसार मंच प्रदानकर उन्हें प्रोत्साहित एवं समृद्ध करने के उद्देश्य से संस्कृति उत्सव-2023 की शुरुआत 25 दिसंबर,  2023 से की गई थी। जनपद, मण्डल एवं राज्य स्तरीय प्रतियोगिताओं में विजेता कलाकारों को महोत्सवों, उत्तर प्रदेश दिवस, अन्य प्रदेशों व जनपदों में होने वाले कार्यक्रमों में प्रस्तुति का अवसर प्रदान किया जाये।

उन्होंने कहा कि राज्य स्तरीय प्रतियोगिता का आयोजन 20 से 21 जनवरी, 2024 को प्रदेश की राजधानी लखनऊ में किया जायेगा, जिसका समन्वय भातखंडे संस्कृति विश्वविद्यालय द्वारा किया जायेगा। राज्य स्तरीय प्रतियोगिताओं में विजेता कलाकारों को यूपी दिवस के अवसर पर स्मृति चिन्ह एवं प्रमाण पत्र दिया जायेगा। अतः सभी मण्डलों द्वारा मण्डल स्तर के चयनित कलाकारों की सूची अनिवार्य रूप से आगामी 19 जनवरी तक उपलब्ध करा दी जाये, ताकि राज्य स्तरीय प्रतियोगिता का आयोजन समयान्तर्गत हो सके। तहसील स्तरीय, जनपद स्तरीय, मण्डल स्तरीय प्रतियोगिता के विजेता कलाकारों की संस्कृति विभाग द्वारा ई-डायरेक्टरी तैयार की जा रही है, जहां से क्यू आर बेस्ड पहचान पत्र प्राप्त किया जा सकता है। अतः सभी विजेता कलाकारों का https://artistdirectoryupculture.com  पर पंजीकरण कराया जाये।

उन्होंने दिनांक 24 से 26 जनवरी तक आयोजित होने वाले यूपी दिवस की जानकारी देते हुये कहा कि उत्तर प्रदेश के लिये यह अत्यंत महत्वपूर्ण दिन है। इस वर्ष यूपी दिवस की थीम-उ0प्र0: समृद्ध आध्यात्मिक व सांस्कृतिक विरासत है। इसका भव्य आयोजन कराया जाये। कार्यक्रम में प्रदेश सरकार द्वारा लोगों की जिंदगी आसान बनाने के लिये किये जा रहे कार्यों और उपलब्धियों को प्रदर्शित किया जाये। कार्यक्रम का व्यापक स्तर पर प्रचार प्रसार कराया जाये, ताकि अधिक से अधिक लोग कार्यक्रम में आये। उन्होंने कहा कि 25 जनवरी को राष्ट्रीय मतदाता दिवस है। इस अवसर पर फर्स्ट टाइम वोटर्स, महिलाओं व दिव्यांगजनों को मतदान डालने के लिये प्रेरित किया जाये। इसके अलावा ऐसे अभिनव प्रयास अभी से किये जायें, जिससे चुनाव में वोटिंग का प्रतिशत बढे।

उन्होंने कहा कि ग्राउण्ड ब्रेकिंग सेरेमनी जल्द प्रस्तावित है। जनपदों को जीबीसी के लिये जो लक्ष्य निर्धारित किया गया है, उससे अधिक प्रस्तावों को जीबीसी के लिये तैयार कराने का प्रयास करें। इसके अलावा स्थानीय स्तर पर भी निवेश को बढ़ाने का प्रयास करें। जिन जनपदों में जीबीसी के लिये तैयार प्रस्तावों का वेरीफिकेशन अवशेष है, उसे शीघ्र पूरा करा लिया जाये।

उन्होंने कहा कि आगामी 22 जनवरी को श्रीराम जन्मभूमि मंदिर में भगवान श्रीरामलला की प्राण-प्रतिष्ठा होने जा रही है। 22 जनवरी को अवकाश, 14 से 21 जनवरी तक सफाई अभियान, 22-26 तक लाइटिंग, 22 जनवरी को मांस-मंदिरा की दुकाने बंद रखने के आदेश निर्गत किये गये हैं, इनका कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित कराया जाये। उन्होंने कहा कि अयोध्या आने वाले वाले श्रद्धालुओं-यात्रियों को आवागमन में समस्या न हो, इसलिये ग्रीन कॉरिडोर बनाने के निर्देश निर्गत किये गये। इन मार्गों में आवागमन में अवरोध उत्पन्न करने वाली चीजें या अतिक्रमण हो उसे हटवा दिया जाये।

जिलाधिकारी बस्ती आंद्रा वामसी ने प्रस्तुतीकरण के माध्यम से बताया कि जनपद बस्ती को 7वें जेआरडी मेमोरियल अवार्ड ‘उच्च फोकस वाले बड़े राज्य-मध्यम आर्थिक स्तर’ श्रेणी के अंतर्गत देश में सर्वाेत्तम प्रदर्शन के लिये चयन किया गया है। इसके अलावा उन्होंने महिलाओं और किशोरियों के स्वास्थ्य को प्रभावित करने वाले 20 सूचकांक जैसे किशोरी स्वास्थ्य, पेयजल, सफाई एवं स्वच्छता, जनन स्वास्थ्य, महिला सशक्तिकरण, महिला संबंधी अपराध, परिवार नियोजन, प्रजनन स्तर इत्यादि क्षेत्रों में हुई उल्लेखनीय प्रगति के बारे में अवगत कराया।

बच्चों की शिक्षा एवं स्वास्थ्य के लिये की गई पहल के बारे में मुख्य विकास अधिकारी फिरोजाबाद नेे प्रस्तुतीकरण के माध्यम से अवगत कराया। उन्होंने बताया कि पंचायती राज विभाग के सहयोग से जनपद में 09 खगोल विज्ञान लैब का निर्माण कराया गया है और अग्रिम कार्य योजना के अर्न्तगत जनपद के प्रत्येक न्याय पंचायत स्तर पर खगोल विज्ञान लैब स्थापित कराये जाने की कार्यवाही शुरू कर दी गई है। जनपद में स्थापित खगोल विज्ञान लैब के आस-पास के उच्च प्राथमिक विद्यालयों में अध्ययनरत् 3125 छात्र-छात्राओं को रोस्टर बनाकर विजिट कराया गया है। विजिट कराये गये छात्र-छात्राओं से निबन्ध, पोस्टर प्रतियोगिता का आयोजन कराया गया।

इसी प्रकार किशोरियों को एनीमिया मुक्त कराने के लिये ’उमंग’ अभियान जनपद में चलाया जा रहा है। प्रथम चरण में 13541 किशोरियों तथा द्वितीय चरण में 9519 किशोरियों की स्क्रीनिंग की गई। कैम्प में उन्हें आयरन की टैबलेट और सेनेटरी नैपकिन्स का वितरण किया गया। जनपद में दिव्यांग बच्चों के लिये विशेष अभियान चलाया गया। कुल 19 कैम्प आयोजित किये गये जिसमें कुल 2671 दिव्यांग बच्चों का पंजीकरण हुआ। इसके अलावा कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालयों में अवस्थापना सुविधाओं का विकास, खाद्य सामग्री की गुणवत्ता में सुधार, खेल गतिविधियां आदि कार्य कराये गये, जिससे विद्यालयों में छात्रों की उपस्थिति तथा शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार हुआ है।

बैठक में अपर मुख्य सचिव कृषि  देवेश चतुर्वेदी, अपर मुख्य सचिव पशुधन डॉ0 रजनीश दुबे, प्रमुख सचिव संस्कृति मुकेश कुमार मेश्राम, प्रमुख सचिव नियोजन आलोक कुमार, प्रमुख सचिव सचिवालय प्रशासन के0रवीन्द्र नायक, प्रमुख सचिव बेसिक शिक्षा डॉ0 शंमुगा सुंदरम, एम0के0 सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण आदि उपस्थित थे।

Related Articles

Back to top button
");pageTracker._trackPageview();
btnimage