उन्हें शीघ्र आशय पत्र निर्गत किये जायें। जिन संस्थाओं की औपचारिकताएं अपूर्ण हैं

Back to top button
btnimage