सीएम योगी ने जल जीवन मिशन के कार्याें को गुणवत्तापूर्ण ढंग से किये जाने के निर्देश दिए

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनपद बस्ती भ्रमण के अवसर पर जनप्रतिनिधियों तथा मण्डल स्तरीय अधिकारियों के साथ आयुक्त सभागार में आहूत एक बैठक में विकास कार्याें तथा कानून-व्यवस्था की समीक्षा की। बैठक में जनपद सिद्धार्थनगर व संतकबीरनगर के अधिकारी वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े रहेे। मुख्यमंत्री ने ‘स्कूल चलो अभियान’ की समीक्षा करते हुए बेसिक शिक्षा अधिकारियों को निर्देशित किया कि बच्चों का ससमय नामांकन कराना सुनिश्चित करें। विद्यालयों में शिक्षकों की ससमय उपस्थिति भी सुनिश्चित की जाए। इसके लिए अधिकारीगण विद्यालयों का औचक निरीक्षण भी करें। उन्होंने निर्देश दिये कि बच्चों की यूनिफाॅर्म तथा काॅपी-किताबें समय से उपलब्ध करा दी जाएं।


मुख्यमंत्री ने विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान तथा दस्तक अभियान की समीक्षा करते हुए समस्त मुख्य चिकित्साधिकारियों को निर्देशित किया कि अस्पतालों में समुचित साफ-सफाई सुनिश्चित की जाए। अगर डाॅक्टरों की कमी है तो स्थानीय स्तर पर जिलाधिकारी के माध्यम से योग्य चिकित्सकों की तैनाती की जाए। मुख्यमंत्री जी ने दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित कराए जाने के निर्देश भी दिए।

मुख्यमंत्री ने बाढ़ से बचाव की समीक्षा करते हुए समस्त जनपदों के अधिकारियों को निर्देशित किया कि संवेदनशील/अतिसंवेदनशील तटबंधों की निगरानी रखी जाए। बाढ़ आने से पूर्व ही समस्त तैयारियां पूर्ण कर ली जाए। इसमें किसी भी प्रकार की शिथिलता न बरती जाए। राहत सामग्री वितरण के लिए जनप्रतिनिधियों का सहयोग लिया जाए। सर्पदंश के मामलों में पीड़ित को तत्काल उपचार दिया जाये।

मुख्यमंत्री ने ‘वृक्षारोपण महाअभियान’ की समीक्षा करते हुए जनपद में लक्ष्य के सापेक्ष पौध रोपण किये जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि पौधों का वितरण जिम्मेदार व्यक्तियों को किया जाए, जो पौधरोपण करने के साथ-साथ इनकी देख-भाल कर सकें। जनसहभागिता सुनिश्चित कराने हेतु पौधों को गोद लेने के लिए लोगों को प्रेरित किया जाए। पौधरोपण करते समय लोगों द्वारा अपने नाम की पट्टिका लगायी जाए और यह प्रण लिया जाए कि हम इसकी देखभाल करेंगे।

मुख्यमंत्री ने राजस्व वादों के निस्तारण, मुकदमा तथा पैमाइश की समीक्षा करते हुए 01 से 03 वर्ष, 03 से 05 वर्ष व 05 वर्ष से अधिक लम्बित मुकदमों का निस्तारण समयबद्धता के साथ मेरिट के आधार पर किए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इसमें किसी प्रकार की शिथिलता क्षम्य नहीं है। अन्यथा की स्थिति में सम्बन्धित की जवाबदेही तय करते हुए कार्यवाही की जाएगी।

मुख्यमंत्री ने आगामी त्योहारों के दृष्टिगत इनके लिए अभी से ही कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि मोहर्रम में अस्त्र-शस्त्र पर पूर्णतया प्रतिबन्ध रहेगा। मोहर्रम के दौरान जुलूस पर कड़ी निगाह रखें तथा इसकी लिखित रूप में अनुमति ले ली जाए। कोई भी नयी परम्परा शुरु न हो, इसका ध्यान रखा जाए। कावड़ यात्रा के दौरान डी0जे0 की ऊंचाई मानक के अनुसार रखी जाए।

मुख्यमंत्री ने पुलिस विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि अपराधियों के खिलाफ कठोर कार्यवाही की जाए। पीड़ित की तरफ से एफ0आई0आर0 दर्ज करते हुए आवश्यक कार्यवाही की जाए। महिला सुरक्षा के दृष्टिगत भीड़ वाले स्थानों पर वर्दी तथा बिना वर्दी में पुलिस की तैनाती की जाए। मुख्यमंत्री जी ने पेट्रोलिंग करने के निर्देश भी दिए।

मुख्यमंत्री ने कृषि विज्ञान केन्द्र की समीक्षा करते हुए निर्देश दिए कि किसानों को समय-समय पर प्रशिक्षण दिया जाए। उन्होंने निवेश मित्र, एक जनपद एक उत्पाद तथा विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजनाओं की समीक्षा करते हुए कहा कि पात्र उद्यमियों को चिन्हित करते हुए ऋण वितरण किया जाए। बैंकर्स के साथ बैठक में जनप्रतिनिधियों को भी आमंत्रित किया जाए। अधिक निवेश होने से जनपद की जी0डी0पी0 भी बढ़ेगी।

मुख्यमंत्री ने जल जीवन मिशन की समीक्षा करते हुए इसके कार्याें को गुणवत्तापूर्ण ढंग से किये जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि पाइप डालने हेतु सड़क के किनारे खोदे गये स्थल को कार्य समाप्त हो जाने के तत्काल बाद दुरुस्त किया जाए। सड़कों से अतिक्रमण हटाया जाए। यह सुनिश्चित किया जाए कि अवैध टैक्सी स्टैण्ड संचालित न होने पाए। उन्होंने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को सड़कांे को गड्ढामुक्त करने के निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि जनता दर्शन में फरियादियों की समस्या को सुने। अगर कोई अधिकारी किसी काम से बाहर रहता है, तो उसके स्थान पर दूसरे अधिकारी को नामित किया जाए। मण्डलायुक्त तथा जिलाधिकारी द्वारा समय-समय पर कार्यालयों का निरीक्षण किया जाए। उन्होंने जनप्रतिनिधियों की समस्याओं को गहनता से सुने जाने तथा उनका निराकरण किये जाने के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया।

बैठक के दौरान मुख्यमंत्री जी ने जनप्रतिनिधियों द्वारा रखे गये प्रकरणों को सुना तथा उनके निस्तारण हेतु सम्बन्धित अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश भी दिए। इस अवसर पर उन्होंने मण्डलायुक्त कार्यालय परिसर में पौधरोपण भी किया।

बैठक में सूक्ष्म, लघु एवं मध्य उद्यम मंत्री तथा जनपद के प्रभारी मंत्री राकेश सचान एवं अन्य जनप्रतिनिधिगण तथा शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Related Articles

Back to top button
btnimage